शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए (Benefits of Shilajit and Ashwagandha for Men) 2023

Rate this post

Table of Contents

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए, स्त्री और महिलाओ के लिए भी

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए

कुछ ऐसी आयुर्वेदिक औषधियां हैं जिससे हम मानसिक और शारीरिक रूप से ऊर्जावान होते हैं. इस आर्टिकल में हम यहां जानेंगे कि शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए किस प्रकार उत्तम और लाभदाई है.

मनुष्य के आज के जीवन में बहुत भाग दौड़ और तनाव है. ऐसे में हम लोग चाहते है. कि हमहमेशा ऊर्जावान रहे. हमारे शरीर का विकास होता रहे. और तनाव मुक्त रहे.

जिससे हम अपने जीवन का अपने जीवन का आनंद ले सके. इसके लिए हम शिलाजीत और अश्वगंधा का उपयोग अपने जीवन में कर सकते हैं. आईए जानते हैं शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए.

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा क्या है

अश्वगंधा एक प्रकार का पौधा होता है. जिसे जड़ी बूटी के रूप में दिया जाता है. यह लगभग 6000 बी. सी .पुराना पौधा है. इसका उपयोग अनेक बीमारियों को दूर करने जैसे वात रोग, कैंसर, हार्ट अटैक, डायबिटीज, आदि में किया जाता है.

अश्वगंधा एक प्रकार का पौधा होता है. जिसको मसलने पर घोड़े के पेशाब जैसी गंध महसूस होती है. यह पौधा जितना ताजा होता है, गंध उतनी अधिक होती है.

अश्वगंधा का पौधा

यह पौधा साधारण तौर पर वनों में भी पाया जाता है. लेकिन बहुत विशेष परिस्थितियों में यह पौधा आप प्राप्त कर सकते हैं. आप अश्वगंधा की खेती करके लाभ ले सकते हैं.

खेतों में पैदा होने वाले अश्वगंधा का पौधा की गुणवत्ता को अच्छा और उत्तम माना जाता है. इस प्रकार से जड़ी बूटी वाले पौधों से तेल निकाला जाता है और तेल निकालने के लिए खेती वाले अश्वगंधा के पौधे को उत्तम माना जाता है.

अश्वगंधा के प्रकार

आप अलग-अलग स्थान पर अश्वगंधा के अलग-अलग नाम जैसे अश्वगंधा, पुनीर ,नागौरी, अश्वगंध, वरदा, बलदा, घोड़ासोड़ा, असोड़ा आदि सुनेंगे. साधारण तौर पर अश्वगंधा दो प्रकार की पाई जाती है

अश्वगंधा कप्सुल

छोटी अश्वगंधा

इस पौधे की झाड़ियां छोटी होती है. जिस कारण यह छोटी अश्वगंधा कहलाती है. छोटे पौधे के साथ इसकी जड़े बहुत बड़ी-बड़ी होती हैं. इस प्रकार की जड़ी बूटी भारत में स्थित राजस्थान के नागौर क्षेत्र में पाई जाती है. इसी कारण इसको नागोरी जड़ी बूटी या नागौरी अश्वगंधा के नाम से भी जाना जाता है.

बड़ी या देसी अश्वगंधा

बड़े पौधे तथा छोटी जड़ों के साथ होने वाली यह अश्वगंधा बड़ी या देसी अश्वगंधा कहलाती है. इस प्रकार की अश्वगंधा को खेती के माध्यम से बाग बगीचे और पहाड़ी स्थान पर उगाया जाता है. इस प्रकार की अश्वगंधा में बहुत सारे गुण होते हैं. इसमें घोड़े के पेशाब जैसी गंध आती है. इसी कारण इसका नाम घोड़े से संबंधित रखा गया है. घोड़े को संस्कृत में अश्व कहा जाता है. बड़ी या देसी अश्वगंधा को बाजी नाम से भी जाना जाता है.

अश्वगंधा प्रयोग की विधि

अश्वगंधा का उपयोग करने का सही तरीका जानने के लिए इस संपूर्ण गाइड में हम आपको आवश्यक जानकारी प्रदान करेंगे।

  • अश्वगंधा कैसे लें
  • दिन के समय कब लें
  • उपयोग की सही मात्रा
  • अश्वगंधा के साथ सावधानियां


अश्वगंधा एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है लेकिन यह एक प्रकार की मेडिसिन दवाई है इसका इस्तेमाल आप जब भी करें किसी भी डॉक्टर की सलाह के अंतर्गत करें जो आपके स्वास्थ्य के लिए उत्तम और जरूरी है.

अश्वगंधा, जिसे भारतीय आयुर्वेद में “भग्वान का आभूषण” कहा जाता है, एक प्राचीन और प्राकृतिक आयुर्वेदिक उपाय है जिसका उपयोग स्वास्थ्य और तंत्रिका सिस्टम के लिए किया जाता है। यह उपाय विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान करने में मदद कर सकता है, लेकिन इसका सही तरीके से उपयोग करना जरूरी है।

अश्वगंधा का उपयोग करने का सही तरीका

  • दिन में 1 से 2 बार अश्वगंधा का सेवन करें।
  • सेवन के साथ दूध, गर्म पानी या शहद का उपयोग कर सकते हैं।
  • इसका सेवन खाने के बाद करें या डॉक्टर की सलाह पर।

अश्वगंधा कितने दिनों तक खाना चाहिए

अश्वगंधा एक प्रकार का सप्लीमेंट है. जो शरीर में मौजूद किसी भी प्रकार की कमी को पूरा करने में मदद करता है. यह बाजार में कैप्सूल और चूरन दोनों रूपों में उपलब्ध है. आप इसका सेवन किसी भी रूप में कर सकते हैं. आप इसका सेवन जब भी करें किसी चिकित्सक की परामर्श के अनुसार करें.

अगर आप इसका सेवन करना चाहते हैं तो आप इसका सेवन 1 – 2 महीने तक कर सकते हैं. इसका सेवन आप इस कंडीशन में करें जब तक आपको इससे किसी प्रकार का साइड इफेक्ट ना हो. अगर आप उसके सेवन में किसी प्रकार की समस्या अधिक को महसूस करते हैं.

तो तुरंत किसी चिकित्सक से परामर्श लें. करें तत्पश्चा इसके सेवन पर विचार करें. यह एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है. यह शरीर में धीरे-धीरे अपना काम शुरू करती है.

अश्वगंधा के फायदे पुरुषों के लिए

  • अश्वगंधा का वैज्ञानिक नाम ब्रिटानिया फेरा है. इसके पुरुष के जीवन और महिलाओं, बच्चों सभी के जीवन में अनेक फायदे हैं.
  • सफेद बाल की समस्या को दूर करने में अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है
  • आंखों की रोशनी बढ़ाने में अश्वगंधा का प्रयोग होता है
  • गले के रोग के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है
  • कैंसर और टीवी रोग में अश्वगंधा चरण का प्रयोग किया जाता है
  • खांसी में अश्वगंधा प्रयोग किया जाता है
  • छाती के दर्द में इसका प्रयोग होता है
  • पेट की अनेक बीमारियों को दूर करने में अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है
  • कब्ज की समस्या को अश्वगंधा के प्रयोग से दूर किया जा सकता है
  • लिंग की कमजोरी, यौन क्षमता में वृद्धि को अश्वगंधा के प्रयोग से दूर किया जा सकता है
  • गठिया के इलाज में अश्वगंधा काफी अधिक फायदेमंद होता है
  • त्वचा रोग और मधुमेह रोग, डायबिटीज में अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है
  • रक्त विकार और मांसपेशियों को मजबूत करने में अश्वगंधा का प्रयोग होता है
  • कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अश्वगंधा चूर्ण का प्रयोग किया जाता है
  • नींद की बीमारी को दूर करने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग होता है
  • इम्युनिटी पावर को स्ट्रांग करने और तनाव दूर करने के लिए भी अश्वगंधा पाउडर लिया जाता है

अश्वगंधा के फायदे महिलाओं के लिए

  • अश्वगंधा के फायदे महिलाओं और पुरुषों के लिए लगभग समान ही होते हैं अगर आप इसका प्रयोग किसी बीमारी आदि के लिए करते हैं तो महिला और पुरुष इसका सेवन समान रूप से कर सकते हैं लेकिन कुछ विशेष फायदे अश्वगंधा के महिलाओं के लिए होते हैं.
  • यह महिलाओं और स्त्रियों को उनके मासिक चक्र में मदद प्रदान करता है
  • यौन उत्तेजना को बढ़ाने में मदद करता है
  • जिन महिलाओं को उच्च हारमोनियम संतुलन होता है उसमें यह लाभदायक है जिससे उन्हें चिंता और साध्य सोने में परेशानी जैसी आदि समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है यह इस प्रकार इन लक्षणों को धीरे-धीरे काम करता है
  • यह मांसपेशियों को नियंत्रित कर शरीर को गति प्रदान करता है
  • वजन घटाने में भी इसका फायदा है
  • यहमहिलाओं की खूबसूरती और स्क्रीन को चमकदार बनाता है.
  • यह महिला में बच्चों की उत्पत्ति ना होना जैसे समस्या को काम करता है

अश्वगंधा के नुकसान

अश्वगंधा एक प्राकृतिक औषधि है. जिसके प्रयोग से कुछ विशेष परिस्थितियों में नुकसान भी होता है. क्योंकि अश्वगंधा की तासीर गर्म होती है. इसलिए इसका सेवन अधिक मात्रा में करना नुकसानदायक भी हो सकता है.

  • इसके अधिक सेवन से शरीर में गैस, उल्टी, दस्त या ज्यादा नींद आने जैसी समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं.
  • अश्वगंधा के ज्यादा प्रयोग से आपको नींद ना आने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है.
  • इसकी तासीर ज्यादा गर्म होने के कारण यह आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम कर सकता है.
  • बीपी शुगर आदि बीमारियां हो सकती हैं.
  • गर्भधारण या प्रेगनेंसी के समय अश्वगंधा का सेवन समस्या में भी उत्पन्न कर सकता है.
  • अश्वगंधा का सेवन पेट के लिए हानिकारक हो सकता है यह डायरिया जैसी बीमारी को जन्म में भी दे सकता है

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे में हमने जाना की,अश्वगंधा के क्या फायदे हैं, और इसका केसे प्रयोग करना है, और किन-किन लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए.
अब हम जानेंगे कि शिलाजीत क्या हैं ,शिलाजीत के क्या फायदे हैं, और इसे कैसे उपयोग में लाना है.

शिलाजीत क्या है?

शिलाजीत एक ऊंचे हिमालय के पर्वतीय शिखर में पाई जाने वाली प्राकृतिक औषधि है. इसकी संरचना अत्यधिक मूलभूत खनिजों और पौधों के मिश्रण से बनी होती है. शिलाजीत का रंग काला तथा गहरा ब्रून रंग जैसा होता है.

शिलाजीत

यह पहाड़ों पर पाए जाने चट्टानों के गधों से निकल जाती है. शिलाजीत का विशेष था यह है. कि इसका संग्रहण लंबी सदियों तक किया जा सकता है. और इसका लाभ विभिन्न स्वास्थ्य कार्यों में किया जाता है.

शिलाजीत के फायदे

शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए

शिलाजीत का फायदा पुरुषों के लिए सबसे महत्वपूर्ण है यह पुरुषों के हारमोंस का संतुलन बनाए रखना है. और साथ ही टेस्टोस्टेरेन समस्या, पेशेवर दीक्षा वर समग्र भलाई के लिए महत्वपूर्ण होता है. यहां शारीरिक कमजोरी और मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है साथियों प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ाती है.

मानसिक क्षमता में सुधार

शिलाजीत सिर्फ शरीर को ही नहीं मानसिक स्थिति को भी सुधरता है इसका निरंतर सेवन करने से एक बेहतर मेमोरी और मानसिक स्पष्ट नजर आती है यह किसी भी कठिन कार्य और अध्ययन में मददगार है.

ऊर्जा और ताकत का स्रोत

शिलाजीत का सेवन करने से आप ऊर्जावान और ताकतवर बने रहते हैं.यह आपके डेली दिनचर्या को बेहतर बनाती है.जिससे आप किसी भी कार्य को बहुत बेहतर ढंग से करते हैं.

आंतरिक स्वास्थ्य में शिलाजीत के फायदे

शिलाजीत अनेक पोषक तत्व और खनिजों से मिलकर पहाड़ों पर तैयार होता है. इसमें पाए जाने वाले तत्व आयरन फूल विक एसिड जिंक आदि हैं. जो स्वास्थ्य के लिए काफी बेहतरमंद फायदेमंद होते हैं. जो आपके अंदर से मजबूत बनाते हैं.

महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे

शिलाजीत एक प्राकृतिक औषधि के होने के साथ-साथ पुरुष और महिलाओं दोनों को फायदा करती है आईए जानते हैं महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे

  • ऊर्जा और ताकत की वृद्धि
  • हार्मोनल संतुलन का समर्थन
  • मानसिक स्वास्थ्य का समर्थन
  • शरीर में विटामिन और खनिजों की सप्लाई
  • शारीरिक संरचना में सुधार
  • गर्भावस्था का समर्थन

पुरुष शिलाजीत का सेवन कैसे करें | शिलाजीत का उपयोग कैसे करें

 शिलाजीत का सेवन

शिलाजीत के पाउडर या कैप्सूल का उपयोग

शिलाजीत पाउडर या शिलाजीत कैप्सूल का उपयोग आप दिन में ज्यादा से ज्यादा दो बार कर सकते हैं आप इसको दूध के साथ ले सकते हैं

शिलाजीत रेजिन का उपयोग

शिलाजीत रेजिन शिलाजीत एजेंट की छोटी-छोटी गोलियां लेकर आप इसको अपनी या दूध के साथ मिलकर ग्रहण कर सकते हैं. जिससे यह और सीधे आपके शरीर में जाकर आपके शरीर को ऊर्जा प्रदान करती है.

शिलाजीत तेल का उपयोग

शिलाजीत के तेल का उपयोग आप शरीर के बाहरी हिस्सों में कर सकते हैं. इस तेल के उपयोग से आपके शरीर में ब्लड सरकुलेशन सुधार होता है. जो आपके शरीर को लाभदायक बनाता है.

Noorani tel एक वरदान जाने केसे?

Silajit Majumder के बारे मे जाने….


नोट किसी भी प्रकार की शिलाजीत का सेवन करने से पहले आप किसी विशेषज्ञ से सलाह है उसके पश्चात ही सही मात्रा और सही दिशा में इसका सेवन करें.

यहां आपने जाना शिलाजीत और अश्वगंधा खाने से पुरुषों के फायदे और शिलाजीत अश्वगंधा खाने से महिलाओं को फायदे अगर आपके मन में किसी भी तरह का कोई डाउट है . तो कृपया कमेंट करें हमारी टीम जल्द से जल्द आपकी चिंता को दूर करेगी।

नोट किसी भी प्रकार की शिलाजीत का सेवन करने से पहले आप किसी विशेषज्ञ से सलाल है उसके पश्चात ही सही मात्रा और सही दिशा में इसका सेवन करें.

शिलाजीत कितनी देर में असर करती है?

साधारण तौर पर शिलाजीत का असर कुछ हफ्ते या महीना बाद दिखाई देता है. लेकिन कभी-कभी कुछ लोगों के शरीर पर या दो-चार दिन बाद ही असर शुरू कर देती है. यह किसी भी व्यक्ति के शरीर की प्रकृति और उसके व्यक्तिगत ताकत के आधार पर बदल सकता है.

50 ग्राम शिलाजीत की कीमत क्या होती है?

50 ग्राम असली शिलाजीत की कीमत भारत में लगभग₹600 से लेकर ₹1500 तक होती है. शिलाजीत की कीमत ब्रांड बाजार की मांग और बाजार में उपलब्धता के हिसाब से अलग-अलग जगह पर अलग-अलग हो सकती है. जब भी आप शिलाजीत खरीदें किसी विश्वास प्राप्त स्रोत से ही खरीदें ताकि, आपका उद्देश्य की प्राप्ति हो सके.

शिलाजीत कब खाना चाहिए?

शिलाजीत को खाने का सही समय सुबह का माना जाता है आप सुबह इसका सेवन खाली पेट करेंगे. तो यह आपके शरीर में ज्यादा इफेक्टिव और ऊर्जा ताकत प्रदान करेगी. शिलाजीत को दूध दही घी या शहर के साथ मिश्रण बनाकर भी सेवन किया जाता है.

शिलाजीत खाने के बाद क्या-क्या नहीं खाना चाहिए?

शिलाजीत खाने के बाद आपको ग्राम और तली हुई चीज नहीं खानी चाहिए. इससे आपका पाचन प्रभावित हो सकता है. इस बात का विशेष ध्यान दें, कि यदि आप अल्कोहल लेते हैं. तो उसके बाद शिलाजीत का उपयोग कदापि न करें.

शिलाजीत किस उम्र में खाना चाहिए?

शिलाजीत का सेवन 18 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुष और महिलाएं दोनों कर सकते हैं अगर आप छोटे बच्चों को शिलाजीत का सेवन करवाना चाहते हैं तो उसके लिए आप चिकित्सक से परामर्श करें डॉक्टर आपकी व्यक्तिगत स्थिति के आधार पर आपको सही मात्रा और सही तरीके से खान की सलाह देंगे.

शिलाजीत और अश्वगंधा को एक साथ लेने से क्या फायदे और क्या नुकसान है ?

शिलाजीत और अश्वगंधा दोनों ही प्राकृतिक आयुर्वेदिक औषधि हैं. जो हमारे शरीर को बेहतर और मजबूत बनाती हैं .अगर आप इनका सेवन करते हैं. तो यह आपके लिए बहुत ज्यादा हद तक फायदेमंद होती हैं. लेकिन शिलाजीत के फायदे जैसे कि शारीरिक ताकत में वृद्धि, का आनंद बढ़ता है, पाचन तंत्र में सुधार होताहैं. तथा अश्वगंधा के फायदे आपके इम्यूनिटी को बढ़ाना, बॉडी में ऊर्जा का लेवल बनाए रखना और स्ट्रेस कम करने के लिए किया जाता है.
शिलाजीत और अश्वगंधा को साथ लेने से आपको अतिरिक्त ऊर्जा की समस्या, पाचन तंत्र में समस्या, उच्च रक्तचाप की समस्या, गर्भावस्था के दौरान, समस्या आदि नुकसान हो सकते हैं.





Share to help

Leave a Comment